सेनै-मुदलियार

:श्रीः

श्रीमते रामानुजाय नमः

श्रीमद् वरवरमुनये नमः

श्री वानाचलमहामुनये नमः

जय श्रीमन्नारायण ।
आळ्वार एम्पेरुमानार् जीयर् तिरुवडिगळे शरणं ।

ओराण्वालि गुरुपरम्परा के अन्तर्गत श्री पेरिय पेरुमाळ् और श्री पेरिय पिराट्टि के बाद,  श्री सेनै मुदलियार (विष्वक्सेनजी , भगवान श्रीमन्नारायण के सेनापति, नित्य सूरी श्री विश्वक्सेनजी ) जो इस परम्परा में तीसरे आचार्य है ।

  • सेनै मुदलियार (विष्वक्सेनजी)

vishwaksena

तिरुनक्षत्र – इप्पासि (आश्विन माह), पूरादम् (पूर्वाषाढ़ा)
ग्रन्थ सूची – विष्वक्सेनजी संहिता

विष्वक्सेनजीजी नित्य सूरि है । भगवान के प्रधान सेनापति है, भगवान कि आज्ञा से नित्य विभूति और लीला विभूति पर अपना नियंत्रण रखते है । वे कई नामो से जाने जाते है जैसे – सेनै मुदलियार, सेनाधिपति, वेत्रधर, वेत्रहस्तर इत्यादि । उनकी पत्नी का नाम सूत्रवति है । वे शेष-आसनर के नाम से भी जाने जाते है क्योंकि वे ऐसे पहले नित्य सूरी है जिन्हे भगवान का शेषप्रसाद् सर्वप्रथम इन्हे ही निवेदित किया जाता है ।

हमारे पूर्वाचार्यों के अनुसार पेरिय पिराट्टि विष्वक्सेनजीजी की आचार्य है और आळ्वार संत भी इनके शिष्य हुएँ है । बतलाते है की भगवान नित्य-लीला विभूति के कार्यों का नियंत्रण श्री विष्वक्सेनजीजीजी को दे रखा है, और भगवान अपने स्वधाम मे भक्तगणों और नित्यसूरियों के कैंकर्य का आनन्द् लेते है । पूर्वाचायों के अनुसार श्री विष्वक्सेनजीजी एक मन्त्री का अभिनय करते है और श्री भगवान एक राजकुमार का अभिनय करते है ।

श्री यामुनाचार्य ने अपने स्तोत्ररत्न (42 श्लोक) मे भगवान और विष्वक्सेनजीजी के सम्बन्ध को कुछ इस प्रकार दर्शाया है

त्वदीय भुक्तोज्झित शेष भोजिना त्वया निसृष्टात्मभरेण यद्यथा ।
प्रियेण सेनापतिना न्यवेदि तत् तथाSनुजानन्तमुदारवीक्षणैः ॥

इस श्लोक मे , श्री यामुनाचार्य भगवान को सम्बोधित करते हुये, श्री विष्वक्सेनजी कि प्रशंसा करते है और भगवान के उभय साम्राज्य (यानि नित्य विभूति – लीला विभूति) जो श्री विष्वक्सेनजी के नियण्त्रण मे है उसी दृष्य का आनन्द लेते है।

भावार्थ (संक्षिप्त) – इस श्लोक मे यामुनाचार्य कहते है कि विष्वक्सेनजी पेरुमाल् भगवान की आज्ञा से उनके उभय साम्राज्य (यानि नित्य-लीला विभूति) के नियंत्रक है और जो भगवान का शेष प्रसाद सबसे पहले प्राप्त करते है, और उभय विभूतियों – नित्य सूरी और लीला विभूति दोनों के ही प्रिय है । श्री विष्वक्सेनजी भगवान के कार्यों को (भगवान के कटाक्ष मात्र से) समझकर भलि-भाँति निभाते है । श्री विष्वक्सेनजी भगवान के ऑंखों से समझ जाते है की उनकी क्या इच्छा है और वे अपने निपुणता से उस कार्य को निभाते है ।

श्री विष्वक्सेनजी का तनियन् –

श्री रंगचँद्रमसम् इन्द्रियाविहर्तुम् विन्यस्यविस्वचिद चिन्नयनाधिकारम् ।
यो निर्वहत्य निसमन्गुळि मुद्रयैव सेनान्यमन्य विमुकास्तमसि श्रियाम ॥

हम सारे भगवद्-भक्तों से विनती करते है कि जैसे श्री विष्वक्सेनजी भगवद्-कैंकर्य मे संलिप्त है, इसी तरह सम्प्रदाय अनुयायिओं को उनसे प्रार्थना करनी चाहिए की हमें भी इसी तरह, के कैंकर्य मे संलिप्त रखे ।

अडियेन सेतलूर सीरिय श्रीहर्ष केशव कार्तीक रामानुज दासन्
अडियेन वैजयन्त्याण्डाळ् रामानुज दासि

Source

Advertisements

8 thoughts on “सेनै-मुदलियार

  1. Pingback: नम्मालवार | guruparamparai hindi

  2. Pingback: श्री-गुरुपरम्पर-उपक्रमणि – 2 | guruparamparai hindi

  3. Pingback: तिरुमळिशै आळ्वार (भक्तिसारमुनि) | guruparamparai hindi

  4. Pingback: 2014 – Oct – Week 5 | kOyil

  5. Pingback: vishwaksEnar (sEnai mudhaliyAr) | AchAryas

  6. Pingback: प्रतिवादि भयंकर अण्णन् | guruparamparai hindi

  7. Pingback: अप्पिळ्ळै | guruparamparai hindi

  8. Pingback: अप्पिळ्ळार | guruparamparai hindi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s