तिरुनारायणपुरत्तु आय् जनन्याचार्यर्

श्रीः
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवरमुनये नमः
श्री वानाचलमहामुनये नमः

Untitled

जन्म नक्षत्र: अश्विनी, पूर्वाषाढा

अवतार स्थल: तिरुनारायणपुर

आचार्य: उनके पिता लक्ष्मणाचार्य (पञ्च संस्कार), नालूराच्चान् पिळ्ळै (देवराजाचार्य स्वामीजी) (ग्रंथ कालक्षेप)

स्थान जहाँ परमपद प्राप्त कियातिरुनारायणपुर

रचनाएं: तिरुप्पावै व्याख्यान (2000 पद और 4000 पद) और स्वापदेश, तिरुमालै व्याख्यान, आचार्य हृदयं और श्रीवचन भूषण के लिए व्याख्यान, मामुनिगल की महिमा में एक तमिल पासूर, आदि

उनके जन्म पर उनके माता-पिता ने उनका नाम देवराज रखा। उन्हें देव पेरुमाल, आसुरी देवराय, तिरुत्तालवार दासर, श्रीसानु दासर, मातरू गुरु, देवराज मुनीन्द्र और जनन्याचार्यर् नामों से भी जाना जाता है।

आय् अर्थात माता। वे तिरुनारायण भगवान के लिए दूध बनाने और भोग लगाने का कैंकर्य करते थे। एक बार जब उनके कैंकर्य में देरी हो गयी, भगवान ने आय् की उनके प्रति ममता के सम्मान में पूछा “आय् (माता) कहाँ है?” उस समय से, उन्हें आय् अथवा जनन्याचार्यर् के नाम से जाना जाता है। यह देव पेरुमाल से नडातुर अम्माळ् के संबंध के समान ही है।

वे एक महान विद्वान् थे और संस्कृत और द्राविड वेद/वेदांत दोनों में निपुण थे।

उन्होंने तिरुवाय्मोळि पिल्लै और तिरुवाय्मोळि आचान (इलम्पिलिचै पिल्लै) के साथ नालूराच्चान् पिळ्ळै से नम्पिल्लै के ईदू व्याख्यान सुना करते थे (ईदू का पूर्ण इतिहास https://guruparamparaihindi.wordpress.com/2015/06/21/eeyunni-madhava-perumal/ पर पढ़ा जा सकता है)। आचार्य हृदयं परंपरा के अंश होने से उनकी महिमा है (अलगिय मणवाल पेरुमाल नायनार – पेत्रार (1) – पेत्रार (2) – आय् जनन्याचार्यर् – मणवाल मामुनिगल)।

मामुनिगल ने आचार्य हृदयं के लिए व्याख्यान लिखना प्रारंभ किया। 22वें चूर्णिका के लिए व्याख्यान लिखते हुए, मामुनिगल कुछ स्पष्टीकरण चाहते थे। उन्होंने इस चूर्णिका की चर्चा आय् जनन्याचार्यर् के साथ करने का निर्णय लिया, जो तिरुवाय्मोळि पिल्लै के सहपाठी थे और मामुनिगल, आय् को अपने आचार्य भी मानते थे। मामुनिगल, नम्मालवार से तिरुनारायणपुर जाने और आलवार तिरुनगरी छोड़ने की अनुमति लेते हैं। उसी समय, मामुनिगल के यश और महान प्रसिद्धि के बारे में सुनकर, आय् जनन्याचार्यर् तिरुनारायणपूर से आलवार तिरुनगरी की और प्रस्थान करते हैं। वे दोनों आलवार तिरुनगरी के बाहर मिलते हैं और एक दूसरे को दण्डवत प्रणाम करते हुए, बड़े आनन्द के साथ एक दूसरे के गले लगते हैं। मामुनिगल के शिष्य इन महान आत्माओं की इस भेंट को पेरिय नम्बि (महापूर्ण स्वामीजी) और एम्पेरुमानार (रामानुज स्वामीजी) की भेंट के समान मानते हैं और उनकी एक-दूसरे के प्रति आपसी श्रद्धा देखकर खुश हो जाते हैं। वे दोनों आलवार तिरुनगरी लौटते हैं और मामुनिगल, आय् से पूर्ण आचार्य हृदयं कालक्षेप सुनते हैं। व्याख्यान श्रृंखला के अंत में, मामुनिगल आय् के लिए सुंदर तनियन की रचना करते हैं और उन्हें प्रस्तुत करते हैं। आय्, उसे स्वयं के योग्य न मानकर, प्रतिक्रिया में, मामुनिगल की महिमा में निम्नलिखित सुंदर तमिल पासूर प्रस्तुत करते हैं –

पुतुरिल वंदुदित्त पुण्णियनो?
पुंगकमळुम् तातारूमगीलमार्भन तानिवनो?
तूतूर वनत नेडूमालो?
मणवालमामुनिवं एन्तैयिवर मुवरिलुम यार?

सामान्य अनुवाद:

क्या वे एम्पेरुमानार (रामानुज स्वामीजी) हैं, जो श्रीपेरुम्बुतुर में अवतरित हुए और जो सबसे गुणी हैं?
क्या वे नम्मालवार हैं, जो वकुल पुष्प की माला धारण करते हैं?
क्या वे स्वयं श्रीकृष्ण हैं, जो पांडवों के हित के लिए उनके दूत बनकर गये – अपनी सौलभ्यता (सुगमता) को दर्शाते हुए?
मामुनिगल उपरोक्त तीनों में से कौन हैं, जो मेरे प्रति पिता समान स्नेह दर्शाते हैं?

इस तरह आय् आलवार तिरुनगरी में कुछ समय बिताते हैं और अंततः तिरुनारायणपूर लौट आते हैं। परंतु उनकी अनुपस्थिती में कुछ लोग जो उनसे इर्षा करते थे, वे उनके परमपद प्रस्थान करने की घोषणा कर देते हैं (क्यूंकि वे लम्बे समय तक लौटकर नहीं आये थे) और उनकी सारी संपत्ति मंदिर के संचालन में दे देते हैं। इसे देखकर, आय् बहुत प्रसन्न होते हैं और कहते हैं “भगवान कहते हैं जो उनके प्रिय हैं, वे उनका सभी धन ले लेते हैं, इसलिए यह एक महान आशीष है” और उसके पश्चाद वे एक सादा जीवन व्यतीत करते हैं। वे अपने अर्चाविग्रह भगवान (ज्ञान पिरान), जो उनके आचार्य के द्वारा दिए गये थे, से विनती करते हैं और अपना कैंकर्य जारी रखते हैं। तदन्तर, वे सन्यास आश्रम स्वीकार करते हैं और अंततः परमपद में भगवान की नित्य सेवा प्राप्त करने के लिए वे परमपद कि ओर प्रस्थान करते हैं।

इस तरह हमने तिरुनारायणपुरत्तु आय् के गौरवशाली जीवन की कुछ झलक देखी। वे महान विद्वान् थे और और अपने आचार्य और मणवाल मामुनिगल के बहुत प्रिय थे। हम सब उनके श्री चरण कमलो में प्रार्थना करते हैं कि हम दासों को भी उनकी अंश मात्र भागवत निष्ठा की प्राप्ति हो।

तिरुनारायणपुरत्तु आय् की तनियन:

आचार्य ह्रुदयस्यार्त्था: सकला येन दर्शिता:।
श्रीसानुदासम् अमलं देवराजम् तमाश्रये।।

अदियेन् भगवति रामानुजदासी

आधार : https://guruparamparai.wordpress.com/2013/04/24/thirunarayanapurathu-ay/

archived in https://guruparamparaihindi.wordpress.com , also visit http://ponnadi.blogspot.com/

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava Education/Kids Portal – http://pillai.koyil.org

Advertisements

2 thoughts on “तिरुनारायणपुरत्तु आय् जनन्याचार्यर्

  1. Pingback: श्री-गुरुपरम्परा-उपक्रमणि – 2 | guruparamparai hindi

  2. Pingback: पिन्भळगिय पेरुमाळ् जीयर् | guruparamparai hindi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s