श्री भूतपुरि आदि यतिराज जीयर

श्रीः
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद् वरवरमुनये नमः
श्री वानाचलमहामुनये नमः

तिरुनक्षत्र: अश्विन मास पुष्य नक्षत्र

अवतार स्थल:  ज्ञात नहीं

आचार्य: श्रीवरवरमुनि स्वामीजी

स्थान जहाँ उन्होंने परमपद प्राप्त किया: श्रीपेरुम्बुदुर

यतिराज जीयर मठ, श्रीपेरुम्बुदुर (श्रीरामानुज स्वामीजी का अवतार स्थल) आदि (प्रथम) यतिराज जीयर ने स्थापित किया था।

श्रीपेरुम्बुदुर यतिराज जीयर मठ, श्रीपेरुम्बुदुर

श्रीपेरुम्बुदुर यतिराज जीयर मठ, श्रीपेरुम्बुदुर

यह यतिराज जीयर मठ बहुत अनोखा है, क्यूंकि यह उन कुछ मठों में से एक है जो आलवार / आचार्य अवतार स्थल पर मंदिर के कैंकर्य के लिए और मंदिर में होने वाले उन कैंकर्य की देखभाल करने के लिए स्थापित किया गया है। भगवान और श्रीरामानुज स्वामीजी वर्षभर इस मठ में पधारते हैं।

यतिराज जीयर – श्रीपेरुम्बुदुर यतिराज जीयर मठ

यतिराज जीयर – श्रीपेरुम्बुदुर यतिराज जीयर मठ

उनकी तनियन से हम समझ सकते हैं कि उनका श्रीवरवरमुनि स्वामीजी और अन्य आचार्यों जैसे वानमामलै जीयर, कोयिल कन्दाडै अण्णन् और दोडाचार्य के साथ एक अद्भुत संबंध था। यतिराज जीयर ने इन महान आचार्यों के चरण कमलों में शिक्षा प्राप्त की।

उनके वालि तिरुनाम से हम समझ सकते हैं कि उनकी श्रीरामानुज स्वामीजी के चरण कमल में बहुत प्रीति थी। उनका वालि तिरुनाम श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के वालि तिरुनाम से बहुत मिलता-जुलता है।

यतीन्द्र प्रवण प्रभावं में, यह कहा गया है कि परमस्वामी (तिरुमालिरुन्चोलै कल्ललगर) के निर्देशानुसार, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी ने यतिराज जीयर नामक अपने एक गोपनीय कैंकर्यपारर को तिरुमालिरुन्चोलै मंदिर के संशोधन और व्यवस्था के लिए भेजा। कुछ लोग, इन यतिराज जीयर को श्रीपेरुम्बुदुर आदि यतिराज जीयर मानते हैं, वहीं कुछ अन्य बताते हैं कि वे कोई और जीयर हैं जो बाद में तिरुमालिरुन्चोलै जीयर मठ के प्रथम जीयर हुए। इस बारे में अधिक जानने के लिए, विज्ञ विद्वानों से अनुसंधान कर सकते हैं।

इस तरह हमने श्रीपेरुम्बुदुर आदि यतिराज जीयर के गौरवशाली जीवन की कुछ झलक देखी। हम सब उनके श्री चरण कमलो में प्रार्थना करते हैं कि हम दासों को भी भगवत/भागवत/आचार्य कैंकर्य की प्राप्ति हो।

श्रीपेरुम्बुदुर आदि यतिराज जीयर की तनियन:

श्रीमत् रामानुजांघ्री प्रवण वरमुने: पादुकं जातब्रुंगम,
श्रीमत् वानान्द्री रामानुज गणगुरु सतवैभव स्तोत्र दीक्षम् ।
वादूल श्रीनिवासार्य चरणशरणम् तत् कृपा लब्ध भाष्यं,
वन्दे प्राज्ञं यतिन्द्रम् वरवरडगुरो: प्राप्त भक्तामृतार्तम् ।।

-अदियेन् भगवति रामानुजदासी

आधार : https://guruparamparai.wordpress.com/2013/10/27/sriperumbuthur-adhi-yathiraja-jiyar/

archived in https://guruparamparaihindi.wordpress.com , also visit http://ponnadi.blogspot.com/

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava Education/Kids Portal – http://pillai.koyil.org

 

Advertisements

One thought on “श्री भूतपुरि आदि यतिराज जीयर

  1. Pingback: srIperumbUthUr Adhi yathirAja jIyar | guruparamparai – AzhwArs/AchAryas Portal

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s