अप्पाच्चियारण्णा

श्रीः
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवरमुनये नमः
श्री वानाचलमहामुनये नमः

अप्पाच्चियारण्णा – श्रीदाशरथी स्वामीजी तिरुमंगलै, सिंगप्पेरुमाल कोयिलअप्पाच्चियारण्णा – श्रीदाशरथी स्वामीजी तिरुमाळिगै, सिंगप्पेरुमाल कोयिल

तिरुनक्षत्र: श्रवण, हस्त नक्षत्र

अवतार स्थल:  श्रीरंगम

आचार्य: पोन्नडिक्काल् जीयर

शिष्य: अण्णाविलप्पन (उनके पुत्र), आदि

श्रीरंगम में जन्मे, उनके पिता श्री सिररण्णर द्वारा उनका नाम वरदराजन रखा गया था। उनका जन्म श्री श्रीदाशरथी स्वामीजी के प्रसिद्ध वादुल वंश में हुआ और वे आण्डान वंश के नव वंशज हुए। वे आय्चियार के पुत्र थे, जो तिरुमंजन अप्पा की पुत्री थी। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी , जो उन्हें अपना प्रिय मानते थे, के द्वारा उनको अप्पाच्चियारण्णा नाम प्रधान हुआ और श्रीवरवरमुनि स्वामीजी उन्हें बड़े प्यार से  “नम् अप्पाच्चियारण्णावो” (क्या यह हमारे अप्पाच्चियारण्णा है?) ऐसा कहकर उनका अभिवादन करते हैं। वे पोन्नडिक्काल् जीयर के भी प्रिय शिष्य थे और वे पोन्नडिक्काल् जीयर के चरण कमल के रूप में जाने जाते हैं (ठीक वैसे ही जैसे पोन्नडिक्काल् जीयर श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के चरण कमलों के रूप में जाने जाते हैं)।

तिरुमंजन अप्पा, श्रीरंगम पेरिय कोयिल में एक स्वार्थहीन कैंकर्यपारर थे और उनकी श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के प्रति अत्यंत प्रीति थी। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के वैभव को जानकर, वे नित्य प्रतिदिन श्रीवरवरमुनि स्वामीजी का अनुसरण करते थे| जब भी श्रीवरवरमुनि स्वामीजी स्नान के लिए जाया करते थे, वे वहां स्नान किया करते थे जहाँ से श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के स्नान करने का जल बह कर आता था और वह पवित्र जल जो श्रीवरवरमुनि स्वामीजी द्वारा स्नान के लिए प्रयोग किया था उसके पवित्र संबंध से शुद्ध ज्ञान को प्राप्त किया। उन्होंने श्रीवरवरमुनि स्वामीजी का पूर्ण आश्रय लिया और पुर्णतः श्रीवरवरमुनि स्वामीजी का कैंकर्य प्रारंभ किया।

एक बार जब श्रीवरवरमुनि स्वामीजी स्नान के लिए जा रहे थे तभी बरसात प्रारंभ हो गयी। तो उन्होंने एक श्रीवैष्णव के घर के बरामदे में कुछ देर विश्राम किया। उस घर में रहने वाली एक महिला जीयर को देखते ही घर से बाहर आई और उनके बैठने के लिए आसन की व्यवस्था की। उन्होंने श्रीवरवरमुनि स्वामीजी की भीगे हुई पादुकायें ली जिनमें से पानी झर रहा था और उन्हें अपने मस्तक पर धारण की। उन्होंने फिर उसे पोंछकर, अत्यंत श्रद्धा से उन्हें अपने मस्तक पर धारण किया। उन पादुकाओं के संबंध मात्र से उन पर कृपा हुई और उन्होंने श्रीवरवरमुनि स्वामीजी को अपने आचार्य रूप में स्वीकार करने का निश्चय किया। जब जीयर ने उनसे उनका परिचय पूछा तब उन्होंने बताया कि उनका नाम आच्चि है और वे तिरुमंजन अप्पा की पुत्री है, तिरुमंजन अप्पा से उनके संबंध को सुनकर श्रीवरवरमुनि स्वामीजी बहुत प्रसन्न हुए। वे बताती है कि उनक विवाह कन्दाडै सिर्रण्णार (श्रीदाशरथि स्वामीजी के वंशज) से हुआ है। जब बरसात बंद हुई, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी ने कावेरी के लिए प्रस्थान किया।

कुछ समय पश्चाद, उन्होंने अपनी अभिलाषा अपने पिताश्री को बताई और उनके पिता श्रीवरवरमुनि स्वामीजी द्वारा उनके पञ्च संस्कार विधि की व्यवस्था एक गोपनीय विधान में करते हैं (क्यूंकि वे एक आचार्य पुरुष परिवार से संबंधित थी, इसीलिए सार्वजनिक रूप से ऐसा करने से भयभीत थी)। हालाँकि उनके वर्त्तमान संबंध को देखते हुए प्रथमतः श्रीवरवरमुनि स्वामीजी संकोच करते हैं, परंतु उनके अत्यधिक श्रद्धा को देखते हुए, वे उनकी पञ्च संस्कार विधि पूर्ण करते हैं।

अंततः, कन्दाडै परिवार के बहुत से आचार्यों ने भगवान की दिव्य अनुकम्पा के माध्यम से श्रीवरवरमुनि स्वामीजी की शरण ली। कोयिल कन्दाडै अण्णन्, जो प्रमुख आचार्य हैं, वह एक दिव्य स्वपन के माध्यम से, पोन्नडिक्काल् जीयर के मार्गदर्शन से श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के चरण कमलों में शरण लेते हैं। वे कन्दाडै तिरुवंश के संभवतः सभी आचार्य पुरुषों को भी श्रीवरवरमुनि स्वामीजी की शरण कराते हैं।

कोयिल अण्णन् और अन्य को पञ्च संस्कार प्रदान करने के पश्चाद, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी, पोन्नडिक्काल् जीयर के प्रति अपनी सर्वाधिक प्रीति को प्रदर्शित करते हैं। वे सब से कहते हैं “पोन्नडिक्काल् जीयर मेरे जीवन श्वांस के समान है और मेरे हितैषी है। जो भी मेरा वैभव है, उन्हें भी वही प्राप्त होना चाहिए”। जिसप्रकार श्रीदाशरथि स्वामीजी के वंशजों के साथ मेरा संबंध (आचार्य के समान) है, उसी प्रकार पोन्नडिक्काल् जीयर के सानिध्य में भी उनके परिवार से सम्बंधित कुछ शिष्य होना चाहिए” अण्णन, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी के ह्रदय को समझकर कहते हैं “तब आप मुझे पोन्नडिक्काल् जीयर के शिष्य होने का आदेश प्रदान किए होते !” और श्रीवरवरमुनी स्वामीजी यह कहते हुए अण्णन के प्रति अपना विशेष अनुराग दर्शाते हैं “जो मेरे निमित्त है, उनका त्याग मैं कैसे कर सकता हूँ (स्वयं पेरिय पेरुमाल के दिव्य आदेश के अनुसार)?” तब कोयिल अण्णन् अपने सभी संबंधियों की ओर देखते हैं और तभी अप्पाच्चियारण्णा खड़े होकर विनम्रता से कहते हैं “हे हमारे स्वामी वानमामलै रामानुज जीयर, कृपया मुझे अपनी शरण में लीजिये”। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी उनसे बहुत प्रसन्न होते हैं और उन्हें “नम अप्पाचियारण्णावो?” (क्या यह हमारे अप्पाचियारण्णा है), ऐसा कहकर उनका अभिवादन करते हैं। श्रीवरवरमुनी स्वामीजी फिर पोन्नडिक्काल् जीयर को अपने सिन्हासन पर बैठाते हैं और उनके हाथों में शंख और चक्र प्रदान करते हुए उनसे अप्पाचियारण्णा की पञ्च संस्कार विधि संपन्न करने के लिए कहते हैं। पोन्नडिक्काल् जीयर पहले विनम्रता से मना करते हैं, परंतु श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के आग्रह करने पर कि ऐसा करने से उन्हें प्रसन्नता होगी, पोन्नडिक्काल् जीयर उसे स्वीकार करते हैं।

श्रीवरवरमुनि स्वामीजी (श्रीरंगम) - पोन्नडिक्काल जीयर (वानमामलै)- अप्पाच्चियारण्णा

श्रीवरवरमुनि स्वामीजी (श्रीरंगम)   – पोन्नडिक्काल जीयर (वानमामलै)   – अप्पाच्चियारण्णा

इसके पश्चाद अप्पाच्चियारण्णा श्रीरंगम में निरंतर पोन्नडिक्काल् जीयर और श्रीवरवरमुनि स्वामीजी की सेवा में संलग्न हुए।

एक समय श्रीवरवरमुनि स्वामीजी वेंकटाचल की यात्रा पर सभी शिष्य के साथ प्रस्थान करते हैं। वे प्रथमतय कांचीपुरम पहुँचते हैं और वहां देव पेरुमाल भगवान का मंगलाशासन करते हैं। उस समय जीयर और उनके सहयोगी वैशाख महोत्सव पर देव पेरुमाल की आराधना करते हैं और गरुड़ वाहन में विराजे भगवान का मंगलाशासन करते हैं।

गरुड़ वाहन पर देव पेरुमाल- श्रीवरवरमुनि स्वामीजी

गरुड़ वाहन पर देव पेरुमाल- श्रीवरवरमुनि स्वामीजी

कांचीपुरम के श्रीवैष्णव श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के समक्ष पहुंचकर उनकी बहुत प्रशंसा करते हैं। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी उन्हें श्रीवैष्णव आचरण और सिद्धांतों के महत्त्व का वर्णन करते हैं और उन्हें दिव्य प्रबंधन आदि विषयों में दक्षता प्राप्त करने के लिए कहते हैं। वे उनके निर्देशों को प्रसन्नता से स्वीकार करते हैं और उनसे विनती करते हैं कि वे किसी की नियुक्ति करे जो सदा वहां निवास करते हुए उनका मार्गदर्शन करे । श्रीवरवरमुनि स्वामीजी, पोन्नडिक्काल् जीयर से अप्पाच्चियारण्णा को उनके समक्ष लाने के लिए कहते हैं और वे उनकी आज्ञा का पालन करते हैं। तद्पश्चाद वे सभी श्रीवैष्णवों से कहते हैं “अप्पाच्चियारण्णा को मेरे समान ही माने” और अप्पाच्चियारण्णा को निर्देश देते हैं कि “क्यूंकि आप श्रीदाशरथि स्वामीजी के कुल से सम्बंधित हैं, आप मेरे नियुक्त अधिकारी बनकर यहाँ सभी का मार्गदर्शन करते हुए आण्डान, कन्दाडै थोलप्पर आदि पूर्वजों को प्रसन्न करें और प्रतिदिन देव पेरुमाल का मंगलाशासन करें। हस्तगिरी नाथ सदा आपका मंगल करेंगे”। अप्पाच्चियारण्णा, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के निर्देशों को स्वीकार करते हैं परंतु जीयर की तिरुमाला यात्रा में उनका अनुसरण करते हैं। बहुत से दिव्य देशों की यात्रा के पश्चाद, वे अंततः श्रीरंगम लौटते हैं।

उस समय, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी, अप्पाच्चियारण्णा को आमंत्रित करते हैं और उन्हें अपने कांचीपुरम लौटने के कर्तव्य के विषय में स्मरण कराते हैं। अप्पाच्चियारण्णा, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के चरणकमल अनुरागी श्रीवैष्णव भागवत गोष्ठी का साथ छूटने पर अपना दुःख प्रकट करते हैं। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी, अप्पाच्चियारण्णा के मनोभाव को समझकर, उन्हें पेरुमाल की सन्निधि में ले जाते हैं। उनके पास एक सोम्बू (छोटा पात्र) था, जिसे वे श्री रामानुज के नाम से संबोधित करते थे, परंतु उसे उन्होंने पोन्नडिक्काल् जीयर को प्रदान किया जो उन्हें अपनी पूजा पेटी में विराजमान कर प्रतिदिन अत्यंत श्रद्धा से आचार्य प्रसाद समझकर उसकी आराधना करते थे। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी, पोन्नडिक्काल् जीयर को वह सोम्बू लाने का आदेश देते हैं, और उसे लेकर अप्पाच्चियारण्णा को प्रदान करते हुए कहते हैं कि “क्यूंकि इसमें अंकित तिरुमण, शंख, चक्र और श्रीरामानुज नाम सभी लुप्त हो गए हैं, कृपया इस धातु से आप मेरे दो विग्रह बनाये और एक अपने आचार्य (पोन्नडिक्काल् जीयर) को समर्पित करके, द्वितीय विग्रह को अपने तिरुवाराधन में विराजे”। वे अपने तिरुवाराधन में भी “एन्नै तीमनम केडुत्तार” (जिन्होंने मेरे मन को शुद्ध किया-यह दिव्य नाम श्रीशठकोप स्वामीजी की तिरुवाय्मौली 2.8 पधिगम से लिया गया है) नामक दिव्य विग्रह अप्पाच्चियारण्णा को प्रदान किये।

एन्नैथ तिमनम केदुत्तार-श्रीदाशरथी स्वामीजी तिरुमंगलै, सिंगप्पेरुमाल कोयिल

एन्नै तीमनम केडुत्तार -श्रीदाशरथी स्वामीजी तिरुमंगलै, सिंगप्पेरुमाल कोयिल

इन भगवान की आराधना आत्कोण्डविल्ली जीयर (श्रीरामानुज स्वामीजी के शिष्य) और कन्दाडै आण्डान, श्रीदाशरथि स्वामीजी के पुत्र, जो आत्कोण्डविल्ली जीयर के प्रिय थे, के द्वारा की गयी है। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी कहते हैं “क्यूंकि आप भी कन्दाडै आण्डान के वंशज हैं और आप इन भगवान की आराधना करने के अधिकारी हैं, आप इन्हें अपने तिरुवाराधन में विराजमान कर प्रतिदिन इनकी सेवा करे”। अप्पाच्चियारण्णा के प्रति अपने अत्यधिक प्रीति को दर्शाते हुए श्रीवरवरमुनि स्वामीजी कहते हैं कि अप्पाच्चियारण्णा स्वयं देव पेरुमाल के अंश स्वरुप हैं। श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के निर्देशों को स्वीकार करते हुए, अप्पाच्चियारण्णा कांचीपुरम में निवास करते हुए वहां सभी श्रीवैष्णवों का मार्गदर्शन करते हैं।

इस प्रकार, हमने अप्पाच्चियारण्णा के गौरवशाली जीवन की कुछ झलक देखी। वे श्रीवरवरमुनि स्वामीजी और अपने आचार्य पोन्नडिक्काल् जीयर के बहुत प्रिय थे। हम सब उनके श्री चरण कमलो में प्रार्थना करते हैं कि हम दासों को भी अपने आचार्य के प्रति अंश मात्र अभिमान की प्राप्ति हो।

अप्पाच्चियारण्णा की तनियन:

श्रीमत वानमहाशैल रामानुज मुनिपिर्यम
वादुल वरदाचार्यं वन्दे वात्सल्य सागरं

-अदियेन् भगवति रामानुजदासी

आधार: https://guruparamparai.wordpress.com/2013/09/07/appachiyaranna/

archived in https://guruparamparaihindi.wordpress.com , also visit http://ponnadi.blogspot.com/

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava Education/Kids Portal – http://pillai.koyil.org

Advertisements

One thought on “अप्पाच्चियारण्णा

  1. Pingback: varadhAchArya (appAchchiyAraNNA) | guruparamparai – AzhwArs/AchAryas Portal

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s